Wednesday, June 3, 2020

सचिन तेंदुलकर की एक अनकही कहानी// An Untold Story Behind Sachin Tendulkar//Three Generations one hero








                    



सचिन तेंदुलकर की एक अनकही कहानी


अक्सर हममें से ज़्यादातर लोग कठिन परिस्थितियां के आगे आसानी से हार मान लेते हैं या तो उन परिस्थितियों से समझौता कर लेते हैं क्योंकि शायद हमें सरल जीवन जीने की आदत सी हो गई है या तो हमें उन चुनौतियों को स्वीकार करने से डर लगता हो । यहां पर इसके जवाब हर लोगों के अलग-अलग हो सकते हैं, पर कुछ विरले ही ऐसे होते हैं जो दिखने में तो हम सबकी तरह ही सामान्य होते हैं पर उनकी सोच, साहस और उसकी ज़िद्दीपन उन्हें हम सबसे अलग और खास बनाती है ।

अगर आप इतिहास के पन्नों को पलटकर देखें तो आपको आश्चर्य होगा कि ज्यादातर इतिहास इन्हीं लोगों ने रचे हैं ।
किसी ने सच ही कहा है कि समझदार लोग तो केवल रचे हुए इतिहास पढ़ते हैं और इतिहास तो कोई सरफिरा ही रचते हैं ।

सन् 1989 का  वो दिन भला कौन भूल सकता है जहां दो सरहदों की सम्मान "दांव" पर लगी हुई थी ।
दोनों ही देश एक दूसरे को पछाड़ने के लिए कोई कसर बाकी नहीं छोड़ना चाहते थे । वैसे तो ये दोनों ही सरहद आपस में भाईचारा या समझौता का रास्ता आसानी से अपनाना पसंद नहीं करते और इनकी हर फैसला
 "बन्दूक की नोक" या गोला-बारूद से ही होती थी पर आज इनकी फैसला इन सबसे अलग " क्रिकेट के मैदानों "  पर हो रही थी और वो भी बल्ले और गेंद से हो रही थी ।

इन दोनों देशों की लोकप्रियता क्रिकेट के मैदान में इतनी ज्यादा है कि लोग इनकी तुलना "एशेज" जैसी बड़ी सीरीज से भी करने लगते हैं । अब, आप सब समझ ही गए होंगे कि मैं किन दो देशों की बात कर रहा हूं ।
जी हां.... मैं भारत और पाकिस्तान क्रिकेट की उस भयानक घटना की बात कर रहा हूं जहां विपरीत परिस्थितियों के बीच एक चमकता हुआ "सितारा" ने जन्म लिया था


भारत और पाकिस्तान का वह टेस्ट मैच जिसमें पाकिस्तान की ओर से वकार यूनुस, वसीम अकरम जैसे बड़े दिग्गज खिलाड़ी खेल रहे थे जो उस वक्त उनकी जोड़ी दुनिया के टॉप गेंदबाजों की लिस्ट में गिने जाते थे । उनकी इस जोड़ी के आगे आस्ट्रेलिया, इंग्लैंड जैसी बड़ी टीमें भी डरती थी क्योंकि उनकी हर गेंदें 150Km/hr - 160/hr की रफ्तार से बल्लेबाजों के सामने आग उगलती हुई आती थी और जिसका सामना करना किसी भी बल्लेबाजों के लिए आसान नहीं था ।
उस टेस्ट मैच का वह आखिरी दिन था और भारत मैच आसानी से हारने के कगार पर था या यूं कहें कि भारत का मैच हारना तय था क्योंकि उनकी आधी से ज्यादा खिलाड़ी पैवेलियन लौट चुकी थी और अगर नवजोत सिंह सिद्धू को छोड़ दिया जाए तो कोई भी ऐसा बल्लेबाज नहीं बचा था जिनके पास ज्यादा अनुभव हो....ऐसे में भारत का हारना लगभग तय हो चुका था ।
एक तरफ जहां भारत की नाज़ुक सी बल्लेबाजों की छोटी सी टुकड़ी थी जिसमें नवजोत सिंह सिद्धू के बाद सिर्फ गेंदबाज बचे हुए थे और दूसरी ओर वसीम अकरम और वकार यूनुस की रफ्तार भरी गेंदों का "खौफ" था ....!!!

तभी महज 16 साल का एक लड़का क्रीज पर आता है और सामने थे वकार यूनुस ।
वकार की पहली गेंद तो किसी तरह निकल जाती है पर 
अगली गेंद पिच पर टप्पा खाकर सीधे उस लड़के के नाक पर जा लगती है और वह बुरी तरह घायल हो जाता है ।
उस वक्त वह महज 16 साल का था जब वह अपनी मौत और जिन्दगी से जंग लड़ रहा था और उनकी लाईव screening  हर घर के TV screen पर दिखाया जा रहा था ।
लोग उनकी जीवन के लिए "रब" से दुआएं मांग रही थी पर वह लड़का अपनी "जिन्दगी" की परवाह किए बिना उन करोड़ों लोगों के लिए मौत से जंग लड़ रहा था जो  cricket को भगवान की तरह पूजते हैं ।
मैंदान के चारों ओर सन्नाटा था और मैदान के बीचों बीच वह लड़का जमीन पर गिरा पड़ा था ।
उनके नाक से खून बह रहा था और वह खून से लूहलूहान हो चुका था और उनके शरीर में इतनी-सी भी शक्ति नहीं थी कि वह अपने पैरों के दम पर उठ खड़ा हो सके ।
तभी कुछ डॉक्टर और खिलाड़ी दौड़कर उनकी मदद के लिए वहां आते हैं और उन्हें आराम करने या रिटायर हर्ट होकर पवेलियन लौट जाने के लिए कहते हैं ।
हर भारतीय दर्शकों की आखिरी उम्मीदें भी टूटती हुई नजर आ रही थी ।
लोग अपनी-अपनी सीटें छोड़कर जाने की तैयारी में थे क्योंकि उन्हें साफ-साफ लगने लगा था कि भारत मैच आसानी से हारने वाला है ।

पर कहते हैं ना कि जिसमें अपने वतन के प्रति प्यार हो वह अपनी खुद की परवाह करने से पहले अपने वतन की परवाह करते हैं और हुआ भी यही.....!!!!
तभी मैदान पर गिरे हुए बेजान सी पड़ी उस लड़के के मुंह से आवाज आई :-
" मैं खेलूंगा.......!!!!"

और वह लड़का एकाएक फिर से क्रीज़ पर खड़ा हो जाता है ।
यह देखकर पूरा स्टेडियम तालियों की गड़गड़ाहट से गूंजने लगती है मानो ऐसे लगने लगता है कि एक मुरझाए हुए चेहरों को एक नई मुस्कान मिल गई हो ।
और वकार यूनुस की अगली ही "गेंद" को वह सीमा रेखा के बाहर चार रन के लिए भेजता है और इसबार लोग दुगुनी उत्साह के साथ खड़े होकर उस लड़के की हौसला अफजाई कर रहे थे।
वह लड़का ना सिर्फ वकार, वसीम की गेंदों का डटकर सामना किया बल्कि वह मैच के अंत तक क्रीज पर एक चट्टान की तरह डटे रहे और आखिरकार उसने नवजोत सिंह सिद्धू के साथ 101 रनों की बड़ी साझेदारी करते हुए भारत को हारने से बचाया । इसकी किसी ने भी कल्पना नहीं की थी कि भारत हारा हुआ मैच भी "ड्रा" खेल सकता है पर उस काम को महज 16 साल के उस लड़के ने कर दिखाया जो उस वक्त किसी ने नहीं कर पाया था ।
भले ही उस वक्त लोगों को यह कोई चमत्कार सा लगे पर वह चमत्कार नहीं हकीकत था जो एक व्यक्ति की अटल निष्ठा और
उसके देश के प्रति प्रेम को दर्शाता है ।

 यह लड़का कोई और नहीं बल्कि सचिन रमेश तेंदुलकर था जो आगे चलकर पूरे विश्वभर में क्रिकेट रिकॉर्डों की अंबार लगा दी और पूरे विश्वभर में  "मास्टर ब्लास्टर"/ "क्रिकेट के भगवान" आदि के नाम से प्रसिद्ध हुआ

अगर वह उस दिन कठिन परिस्थितियों से समझौता कर लेता तो शायद ही देश को कभी कोई सचिन तेंदुलकर मिल पाता ।
इसलिए हर कठिन परिस्थितियों से डरकर भागे नहीं बल्कि उनका डटकर सामना करें क्योंकि कठिन परिस्थितियों में ही हमारी असली "व्यक्तित्व" की असली पहचान होती है ।



तो Friends कैसी थी मेरी आज की ये post कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं और हां post अच्छा लगे तो post को Like और share जरूर करें । 

Thanks.....!!!




                                                 written By 

                                           Lakshman Tudu
















Tuesday, June 2, 2020

olympic games -2020 | History , complete winner List |



नमस्कार दोस्तों.....!!
मैं Lakshman Tudu आप सबके बीच एक लंबे अरसे के बाद एक और नये Topic के साथ आया हूं और मुझे आशा है कि ये Topic भी आप सबके लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद साबित होने वाली है क्योंकि ये Topic मैंने खासकर प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहे विधार्थियों के लिए लिखा हूं ।
मैंने इस लेख में उन चीजों को ज्यादा तवज्जो दी है जो प्रतियोगिता परीक्षा के नजरों से बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण मानी जाती है ।।
तो चलिए विस्तार से जानते हैं आज के इस नये Topic को ताकि इनसे प्रश्न आये तो एक भी प्रश्न ना छूटे ।।

ओलंपिक खेल (Olympic games)

इस खेल की शुरुआत प्राचीन काल में यूनान के एक शहर "ओलम्पिया" में सन् 776 ईसा पूर्व की गई थी और अगर आधुनिक olympic games की बात करें तो इनकी शुरुआत सन् 1896 ई० में यूनान के ही एक शहर "एथेंस" से प्रारंभ की गई थी ।
ओलंपिक खेल का मुख्य उद्देश्य :-
इसका मुख्य उद्देश्य विश्व भर में खेल के माध्यम से हर एक देश का अपना वर्चस्व स्थापित करना है यानी कि खुद को अन्य देशों की तुलना में बेहतर साबित करना ।
 जैसे:- ( तेज,ऊंचा, बलवान )


कुछ प्रमुख बातें जो olympic games से जुड़ी हुई है :-


अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति का गठन-   सन् 1894 ई० में
    
मुख्यालय :-  लोसाने, स्विट्ज़रलैंड

कुल सदस्य - 11
 ( 1 अध्यक्ष, 3 उपाध्यक्ष, 7 अन्य सदस्य)

प्रथम अध्यक्ष :- डिमेट्रियास विकेलास ( यूनान )

वर्तमान अध्यक्ष:-  थॉमस बाॅक ( जर्मन के निवासी) 

विश्व ओलंपिक दिवस :- 23 जून 
आधुनिक ओलंपिक खेलों के जन्मदाता :-  पियरे डि कोबर्टिन

Olympic Flag (ओलंपिक ध्वज) :-  olympic Flag को सर्वोत्तम olympic आदर्शों में से एक गिना जाता है ।
इसका श्रेय बैरोन पियरे डि कोबर्टिन को जाता है और इन्हीं के द्वारा सन् 1913 ई० में पहली बार निर्माण किया गया था । सर्वप्रथम इस ध्वज को सन् 1920 में हुए एंटवर्प ओलंपिक में फहराया गया था ।
इसकी पृष्ठभूमि सफेद है पर  खास बात यह है कि इसमें ध्वज के मध्य में पांच रंगीन प्रतीक के रूप में मौजूद हैं जो विश्व के पांच महाद्वीपों को इंगित करता है । नीचे मैंने उन महाद्वीपों के नाम दिए हैं:-
नीला - यूरोप
पीला - एशिया
काला- अफ्रीका
हरा - आस्ट्रेलिया
लाल- उत्तर एवं दक्षिण अमेरिका

ओलंपिक में भारत

✍️1. भारतीय ओलंपिक परिषद की स्थापना सन् 1924 ई० में की गई थी जिसके प्रथम अध्यक्ष सर जे० जे० टाटा थे और अगर भारतीय ओलंपिक संघ की बात करें तो इसकी स्थापना सन 1927 ई० में हुई थी और इसके प्रथम अध्यक्ष दोराबजी टाटा थे ।

✍️भारतीय ओलंपिक संघ का मुख्यालय :- नई दिल्ली

✍️ भारतीय ओलंपिक संघ का वर्तमान अध्यक्ष:- 
डॉ. नरिंदर ध्रुव बत्रा ( 14 दिसंबर 2017 से अब तक)

✍️ भारतीय ओलंपिक संघ के प्रथम महासचिव :- डॉ.ए.जी. नोहरेन
✍️ भारतीय ओलंपिक संघ के वर्तमान महासचिव :-राजीव मेहता ( 9 फरवरी 2014 से अब तक )

✍️ 2. भारत की ओर से ओलंपिक में पदक जीतने वाले प्रथम पुरुष- नॉर्मन प्रिचार्ड, सन् 1900 ई० में ( 2 रजत पदक)

( Note :- नाॅर्मन प्रिचार्ड  भारत की ओर से ओलंपिक में भाग लेने वाले प्रथम व्यक्ति भी थे । )

✍️ 3. भारत की ओर से ओलंपिक में भाग लेने वाली प्रथम महिला :- मेरी लीला राव , सन 1956 में 

✍️4. भारत ने अब तक ओलंपिक में कुल कितने पदक जीते हैं ? 
- कुल 28 पदक (  9 स्वर्ण , 7 रजत, 12 कांस्य )

✍️5. भारत की ओर से ओलंपिक में पदक जीतने वाले प्रथम भारतीय महिला - कर्णम मल्लेश्वरी

✍️ 6. भारत ने ओलंपिक में अपना पहला सर्वप्रथम पदक कब जीता था ? - सन 1928 में
( एम्स्टर्डम ओलंपिक में हॉकी के क्षेत्र में )

✍️ 7. भारत की ओर से व्यक्तिगत तौर पर ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले प्रथम व्यक्ति - अभिनव बिंद्रा
( सन् 2008 के बीजिंग ओलंपिक में शूटिंग के क्षेत्र में स्वर्ण पदक जीता था । )

✍️8. भारत ने अब तक ओलंपिक में सर्वाधिक पदक किस क्षेत्र में जीता है ?   - हॉकी में ( कुल 11 पदक) 

✍️ 9. भारत की ओर से ओलंपिक में किस भारतीय खिलाड़ी ने लगातार दो बार पदक जीता है ? - सुशील कुमार

✍️10. भारत ने किस ओलंपिक में सर्वाधिक पदक जीता था ?
   - 2012 के लंदन ओलंपिक में कुल 6 पदक
 ( 2 रजत, 4 कांस्य )

Note :-

✍️ ओलंपिक समिति संघ के सदस्य के तौर पर चुनी जाने वाली प्रथम भारतीय महिला - नीता अंबानी ( 2016 में )

✍️ ओलंपिक समिति संघ के सदस्य के तौर पर चुने जाने वाले प्रथम भारतीय पुरुष - राजू रणधीर सिंह ( 2001 में )


हाॅल ही के ओलंपिक में भारत का प्रदर्शन :-

 * बीजिंग ओलंपिक 2008 ( 29वां ) - 3 पदक 
                                    ( 1 स्वर्ण 2 कांस्य )

 * लंदन ओलंपिक 2012 ( 30वां ) - 6 पदक
                                    ( 2 रजत 4 कांस्य )
        
 * रियो ओलंपिक 2016( 31वां ) - 2 पदक 
                                    ( 1 रजत 1कांस्य )

आगामी ओलंपिक खेलों की सूची :-

32वां ओलंपिक खेलों का आयोजन 2020 में टोक्यो में आयोजित होनी थी जो करोना की वजह से स्थगित कर दिया गया है ।


ओलंपिक के कुछ दिलचस्प आंकड़ें और तथ्य :-
 
📝 1. ओलंपिक खेलों का टीवी प्रसारण सर्वप्रथम किस ओलंपिक से शुरू किया गया था ? - सन् 1960 के रोम ओलंपिक से

📝 2. ओलंपिक खेलों में महिलाओं को भाग लेने की अनुमति कब मिली थी ? - सन् 1900 ई० में


📝 3. ओलंपिक में सर्वाधिक पदक जीतने वाले एकमात्र पुरूष खिलाड़ी - माइकल फ्लेप्स ( USA के निवासी )
 ( कुल 28 पदक जिसमें से 23 स्वर्ण पदक 3 रजत पदक और 2 कांस्य पदक )
( Note :- माइकल फ्लेप्स को ही गोल्डन शार्क का उपनाम दिया गया है । )

📝4. ओलंपिक में सर्वाधिक पदक जीतने वाली महिला खिलाड़ी :- लरीना लाव्यनीना 
 ( कुल 18 पदक जिसमें से 9 स्वर्ण पदक 5 रजत पदक और 4 कांस्य पदक )

📝 5. किसी भी ओलंपिक में सर्वाधिक स्वर्ण पदक जीतने का रिकॉर्ड किस देश के नाम दर्ज हैं ? - रूस
( रूस ने सन् 1988 के सियोल ओलंपिक में सर्वाधिक 55 स्वर्ण पदक जीते थे )

📝6. लंदन पहला शहर है जिसने तीन ओलंपिक खेलों
 ( 1908, 1948 एवं 2012) की मेजबानी की है ।

📝7. लगातार तीन ओलंपिक खेलों में 100 मीटर व 200 मीटर की दौड़ में विश्व रिकॉर्ड के साथ स्वर्ण पदक जीतने वाले एकमात्र खिलाड़ी -  उसैन बोल्ट
 ( 2008 में बीजिंग ओलंपिक, 2012 में लंदन ओलंपिक, 2016 में रियो ओलंपिक में )

उसके साथ साथ उसैन बोल्ट ने लगातार दो ओलंपिक खेलों के 4× 100 मी. रिले दौड़ में भी विश्व रिकॉर्ड के साथ 2 स्वर्ण पदक जीते हैं और इसी के साथ उन्होंने कुल 8 स्वर्ण पदक जीते हैं ।
( 2012 के लंदन ओलंपिक और 2016 के रियो ओलंपिक में 4×100 मी. रिले दौड़ में उन्होंने लगातार 2 स्वर्ण पदक हासिल किया था । )

( Note :- एक धावक के तौर पर सर्वाधिक स्वर्ण पदक जीतने का श्रेय भी उसैन बोल्ट को ही जाता है । )
📝 8. ओलंपिक खेलोंं में सर्वप्रथम 100 मीटर व 200 मीटर की दोनों दौड़ में एकसाथ स्वर्ण पदक किसने जीता था ?
- कार्ल लुईस ( सन् 1984 के लाॅस एंजिल्स ओलंपिक खेलों में उन्होंने यह कारनामा किया था । )

📝 9. आधुनिक ओलंपिक खेलों में सर्वप्रथम स्वर्ण पदक किस खिलाड़ी ने जीता था ? - थॉमस बुर्के ने

📝10. साल 1916, 1940 और 1944 ई० में ओलंपिक खेलों को विश्व युद्ध की वजह से स्थगित कर दिया गया था ।

31वां ओलंपिक खेल - 2016 

✍️ आयोजन :- रियो, ब्राजील में 
 
* कुल देश :- 207     
* कुल खेलों की संख्या :-  28  * कुल प्रतिस्पर्धा :- 306

✍️ Moto :- A New world 

✍️ Theme song :- Soul And world

✍️ Mascot :-  Vinicus  

( यह ब्राजील के एक प्रसिद्ध Musician Vinicus De Moraes के नाम पर रखा गया था । )

1st Rank - अमेरिका ( 121 मेडल )

भारत का रैंक :- 67th  ( 2 मेडल ) 
( भारत की ओर से यह पदक साक्षी मलिक ने कुश्ती में कांस्य पदक और पीवी सिंधु ने बैडमिंटन में रजत पदक जीता था । )


✍️ भारत की ओर से शुभारंभ में ध्वजवाहक के तौर पर भारतीय खिलाड़ियों की अगुवाई 2008 के ओलंपिक में शूटिंग के स्वर्ण पदक विजेता अभिनव बिंद्रा कर रहे थे और ओलंपिक  के समापन समारोह में एक ध्वजवाहक के तौर पर भारतीय खिलाड़ियों की अगुवाई 2016 ओलंपिक के कुश्ती में कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक कर रही थी ।

✍️ उद्घाटन और समापन समारोह का आयोजन मारकाना स्टेडियम में किया गया था ।

✍️ Rosovo , South Sudan और Refugee तीन प्रथम ऐसे देश हैं जिन्होंने पहली बार ओलंपिक खेलों में हिस्सा लिया ।

✍️ 2016 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेलों में भाग लेने वाली सबसे युवा खिलाड़ी कौन थी ? - Gaurika Singh 
( वह नेपाल की रहने वाली है जिन्होंने महज 13 साल की उम्र में 31वें ओलंपिक खेलों में हिस्सा लिया । )

✍️ 2016 के ओलंपिक खेलों में किन दो खेलों को सम्मिलित किया गया था ? 
- गोल्फ और रग्बी

✍️2016 के ओलंपिक खेलों में सर्वप्रथम स्वर्ण पदक किस खिलाड़ी ने जीता था ? -  Virginia Thrasher ने
 ( 10 मी. एयर राइफल स्पर्धा में )

✍️ रियो ओलंपिक 2016 के Logo का डिजाइन किसने किया था ? -  फ्रेड गिली ने

✍️ 2016 के ओलंपिक खेलों में Fiji, Jordan और Rosovo ये प्रथम तीन ऐसे देश हैं जिन्होंने ओलंपिक खेलों में पहली बार पदक जीते हैं ।

✍️ 2016 ओलंपिक खेलों में भारत की ओर से 
Goodwill Ambassador कौन-कौन थे ?
 - सचिन तेंदुलकर, अभिनव बिंद्रा, सलमान खान और ए आर रहमान

✍️ 2016 के ओलंपिक खेलों में कितने देशों ने कोई पदक नहीं जीता था ? - 120 देशों ने


तो ये थे ओलंपिक खेलों से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न जो मैंने आप सबको शेयर किया और हां आप सबको मेरी ये पोस्ट कैसी लगी ?....... मुझे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं ताकि मुझे ऐसे ही पोस्ट लिखने के लिए आप सबका साथ और मोटिवेशन मिलता रहे और हां.. पोस्ट अच्छा लगे तो इसे लोगों के बीच शेयर करना ना भूलें ।

Thanks...!!!


                                 written By
                                Lakshman Tudu